तुम समंदर, मैं लहर

तुम समंदर, मैं लहर। कभी सान्त समंदर में कोलाहल सा मचाता हूं मैं लहर हूँ, किनारों से टकराता हूँ समुन्दर में लौट आता हूँ । कभी...